reuse reduce

जयपुर ने वर्ल्ड एजुकेशन डे पर सस्टेनेबल स्वाप इवेंट में भाग लिया

हम सभी ने उन चीज़ो को खरीदा है जिनका उपयोग हम कभी नही करेंगे। एक ऐसी दुनिया की कल्पना करें जहा लोग हर नई खरीद से पहले चीज़ो को पुन: उपयोग करने पर विचार करते हैं। इस वर्ष, जब unesco ने घोषित किया की ‘विशव शिक्षा दिवस ‘ की थीम लोगो, ग्रह और शांति के लिए शिक्षा पर ध्यान केंद्रित करेगी, वर्थ इंडिया, एक स्थायी जीवन शैली ब्रांड ने ‘एक्सेस टू एक्सेसेस’ का आयोजन किया कैफ़े क्वेंट के जवाहर कला केंद्र में।

यहा लोग किताबे जो पढी जा चुकी हैं, स्टेशनरी और वो सामान को छोड़ सकते थे जिनका वे अब उपयोग नही करते, या कभी भी उपयोग नही करेंगें और बदले में कलेक्शन से कुछ दिलचस्प ले सकते थे।

लोग गुलाबी नगरी के विभिन्न कोनो से पार्टिसिपेट करने के लिए आये। पुस्तक बॉक्स के प्रसिद्ध लेखक जैसे अगाथा क्रिस्टी, रूपीकौर, पाउलो चोहलो, मैनेजमेंट स्टिीज़ और इनसाइक्लोपीडिया भी जमा हुई। एक्सेसरी बॉक्स हैंड बैग्स, क्लच, इयरररोंग्स, ब्यूटी प्रोडक्ट्स , क्रेयॉन्स , ऑयल पेस्टल्स, बाथिंग साल्ट्स और उनुसेड कपड़ो का रंगीन तालु था।

वर्थ इंडिया , पृथ्वी पर न्यूनतम प्रभाव के साथ स्थायी रहने में विश्वास करती है “हमने कैफ़े क्वेंट के साथ सहयोग करने का फैसला किया क्यूंकि हमारे दृशय सामान है। वर्थ इंडिया के संस्थापकों ने कहा की हमारा प्रयास सस्टेनेबल लिविंग का मैसेज फैलाना, कचरे को कम करना है तो पहले बेकार चीज़े न खरीद कर,जो है उसी को रीयूज़ करना सीखे। कैफ़े कैंट जयपुर में एक तरह का कैफ़े है, जो अपने जैविक और शुन्य अपशिष्ठ दृष्टिकोड के लिए जाना जाता है।

विश्व शिक्षा दिवस मानाने के लिए 18 जनवरी से 25 जनवरी तक स्वैप ड्राइव का आयोजन किया गया था। इस आयोजन में शामिल होने के लिए किसी भी विज्ञापन या टिकट को शामिल नहीं किया गया था और इसका सिर्फ एक मकसद था, लोगो को रियूज़, रीडूस, रीसायकल का महत्व बताना।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *