sachin pilot rajasthan election

पायलट करेंगे राजस्थान से भाजपा की विदाई | Sachin Pilot on Rajasthan Election

राजस्थान में वर्ष 2013 में हुए विधानसभा चुनाव में जिस तरह से यहाँ की आवाम ने भाजपा पर विश्वास जमाते हुए भारी-भरकम 163 सीटों पर जीत दिलवा दी थी और इसके तुरंत बाद हुये लोकसभा चुनाव में भी यहाँ के अवाम ने पूरी 25 सीटे भाजपा की झोली में दाल दी थी क्यूंकि यहाँ के आमजन ने सोचा था की राज्य और केंद्र की कड़ी से कड़ी जुड़ने का लाभ उन्हें मिल जायेगा लेकिन राज्य की आवाम के लिए दुखद रहा की लाभ मिलना तो दूर की बात बल्कि हर कदम पर तकलीफे और धोखे बढ़ गए। आवाम की तमाम उमीदो को चकनाचूर करके रख दिया। अभी गाठ कुछ दिनों से राजस्थान में हो रही हड़तालों को देख कर लग रहा था हमारा प्रदेश ‘हड़ताली राजस्थान ‘ बन गया है, मंत्रालिक कर्मचारी रोडवेज कर्मचारी, पंचायतराज कर्मचारी, सूचना सहायक, जनसम्पर्क अधिकारी, कई अन्य विभागों में कर्मचारियों की हड़ताले साथ ही किसानो पर लाठीचार्ज और रबर की गोलियों की बौछार, उद्यमी, व्यापारी, बजरी बंद से परेशां मजदूर वर्ग, युवा वर्ग, पिछड़ता पर्यटन व्यवसाय, बेलगाम सरकारी भ्रष्टाचार, बिगड़ती कानून व्यवस्था, बदहाल सड़के इत्यादि अन्य कई तकलीफे और समस्याएं यहाँ गत पांच वर्ष में गहरी जड़े जमा चुकी है जिसके चलते आम इंसान की जिंदगी प्रभावित हुई है, यह हालात वसुंधरा सरकार की बनते ही बनने शुरू हो गए थे जो की आज पूरी ऊंचाई पर पहुँच गए है।

भाजपा सरकार की इन्ही असफलताओ को देखते हुए कुछ माह पहले उपचुनावों में भाजपा को तगड़ी शिकस्त मिली थी जिसके बाद कांग्रेस में उत्साह की लेहेर आ गयी और कांग्रेस फिर राजस्थान में भाजपा की खिलाफ एक मजबूत विकल्प के रूप में उभरी।

राजस्थान में कांग्रेस को दुबारा खड़ा करने की लिए कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट में जी तोड़ मेहनत की जिसके चलते भाजपा को अब हर कदम पर हार की सामना करना पड़ रहा है। यही नहीं पायलट के आने वाले बयानों को पलटवार भी भाजपा ढंग से नहीं कर पा रही है। युवा वर्ग में जबरदस्त लोकप्रिय सचिन पायलट सादगी और उनकी कार्यशैली को आमजन द्वारा पसंद किया जाता है। यही वजह है की उनकी रैलीया में भरी भीड़ उमड़ती है उनके भाषंड भी गंभीरता लिए होते है। राजस्थान में भाजपा को उपचुनावों में मिली करारी कांग्रेस हाई कमान भी सचिन के बढ़ते हुये सफल कदमो को महसूस कर रहा है। राहुल गाँधी के जयपुर में हुये शानदार रोड शो के बाद तो कांग्रेस कार्यकर्ताओ में आयी उत्साह की लहर कई गुना बढ़ चुकी है।

सचिन पायलट कहते है की कांग्रेस सिर्फ राजस्थान में नहीं बल्कि पूरे देश में भाजपा को जबरदस्त टक्कर देने की स्तिथि में आ गयी है उन्होंने राहुल गाँधी की तारीफ़ करते हुये कहा की वह बहुत शालीनता से भाजपा और नरेंद्र मोदी का मुकाबला कर रहे है और भाजपा उनके सवालो का जवाब देने से कतरा रही है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लाभार्थी सभा और अभी हाल में हुयी अजमेर की चुनावी सभा मुख्यमंत्री की ताबड़तोड़ गौरव यात्रा के बाद भी भाजपा के हालात सुधरते नज़र नहीं आ रहे और भाजपा कार्यकर्ताओ का एक बड़ा हिस्सा अपनी ही सरकार को लेकर मायूस और सदमे में है। भाजपा की गौरव यात्रा पर भी सचिन पायलट ने राज्य की आवाम की सामने इस यात्रा की पोल खोल कर रख दी। इसे एक ढोंग बताया और सरकारी खजाने की बर्बादी का मुद्दा उठाया तो गौरव यात्रा भी एक बारगी तो संकट में आ गयी मगर अपनी नाक बचने के लिए कम भीड़ आने के बावजूद इसे भाजपा ने जारी रखा। इस गौरव यात्रा का आमजन में भी सन्देश यही गया की भाजपा इस यात्रा से मात्र अपना राजनितिक हित ही साध रही है. यह सब सचिन पायलट की कुशल नीतियों और उनके तीखे और सटीक बयानों की कारण ही संभव हुआ, भाजपा भी पायलट के तेवर देखकर फिलहाल सकते में आयी हुई है, सचिन पायलट अब पूरी तरह आक्रामक स्तिथि में नज़र आने लगे है और यही सब देखकर लगने लगा की भाजपा की अब राजस्थान से विदाई तय हो चुकी है।

Leave a Reply